August

मेरा शहर

आज अचानक ही उसने पूछ लिया, "हर वक़्त करती रहती हो, अपने शहर की बात, तुम्हारे शहर में ऐसा क्या है?"मैंने कहा -मेरी तो सुबह-शाम उस शहर में है,मेरे दिन-रात उस शहर के हैं,मेरी हँसी उस शहर में है, और गम भी वहीं है,मेरी ज़िम्मेदारी और जवाबदारी उस शहर मे ...

June

Happy Father’s Mother’s day

आज सुबह पढ़ा-"संघर्ष पिता से सीखो,बाकि सब कुछ दुनिया सिखा देगी।"मेरा मानना है- "संघर्ष 'पिता' बनी माँ का देखोदुनिया के हर रंग को जीना सिखा देगी,रोते हुए भी तुम्हें हँसना सीखा देगी,दुनिया से कुछ अलग सीखने की ज़रूरत नहीं,उनकी 'जिंदगी' तुम्हें पूरी दुनिया दिखा ...

April

लोग बुरे नहीं होते…

आज जहाँ हर एक व्यक्ति दूसरे से स्पर्धा में जी रहा है, वहाँ दूसरे व्यक्ति पर दोषरोपण करना काफी आसान है। हर व्यक्ति के पास कम -से-कम एक नाम अवश्य है , उसके अनुभवों के अनुसार, उसके जीवन के एक बुरे व्यक्ति का। परन्तु क्या कोई व्यक्ति पूरी तरह बुरा हो स ...

March
February
January