August

मेरा शहर

आज अचानक ही उसने पूछ लिया, "हर वक़्त करती रहती हो, अपने शहर की बात, तुम्हारे शहर में ऐसा क्या है?"मैंने कहा -मेरी तो सुबह-शाम उस शहर में है,मेरे दिन-रात उस शहर के हैं,मेरी हँसी उस शहर में है, और गम भी वहीं है,मेरी ज़िम्मेदारी और जवाबदारी उस शहर मे ...

मुझे तो अच्छा लगता है

मुझे अच्छा लगता है,  तुम्हारा यूँ बेपरवाह हो जाना, फिर वापिस लौट आना,खुद पर यूँ प्यार लुटाना, और अपने आप में खुश हो जाना  ... मुझे अच्छा लगता है,  किन्हीं बातों पर तुम्हारी बेतुकी राय होना, फिर उसका प्रमाण खोजना,  औ ...