May

फासला

न तुम मुझसे हाल-चाल पूछते हो,न मैं तुमसे कोई नयी बात...न तुम मुझे हाल- ऐ-दिल बताते हो ,न मैं तुमसे करूँ कोई दिल की बात...न तुम्हें मुझसे कोई शिकवा है,न मुझे तुम से कोई शिकायत...पर फिर भी अब बहुत कुछ अधूरा है...जो शायद पहले कभी पूरा थाकल तुम ने अचानक ही पू ...